Categories
Orthopaedic Surgery

Play Safe, Recover Strong: Home Remedies for Minor Sports Injuries and When to See a Doctor

Being involved with sports of any nature comes with the risk of facing orthopaedic injuries on the field. These injuries can range from being easily manageable to requiring surgery – it depends on how badly you have injured yourself. If the injury appears to be manageable, you can try any of the following home remedies to relieve the pain:

  • Proper bed rest: If the pain does not alleviate after a few hours, you can try resting for a day or two.
  • Ice: Using Ice compressions can help with the pain 
  • Pain Medication: Taking some analgesics could help in pain management

 

If the pain persists despite trying everything, you could have sustained a much more serious injury. It is advised that you immediately go see an orthopaedic expert so they can analyze and diagnose you properly. 

 

A serious injury can hinder your ability to play and engage with the sport. It can have an impact on the following muscles: 

  • Knee
  • Elbow
  • Ankle

 

Serious sports injuries can often require an arthroscopy, which can only be done by experts. At Hunjan Hospital, you can find answers to all your orthopaedic needs. With our team of highly-trained and experienced doctors, you are sure to find some sense of peace. We house state-of-the-art technological equipment for your wellness and betterment – including the apparatus to conduct robotic knee surgery. If you are facing any knee-related troubles, book your appointment today and get back in the game.

Categories
orthopaedic doctor

30 की उम्र के बाद महिलाओं में दिखने लग जाती है कैल्शियम की कमी के ये 7 लक्षण, जाने कौन से है यह लक्षण

30 से अधिक उम्र वाली महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव दिखने लग जाते है, जिनमे में एक है हड्डियों का कमजोर होना | कैल्शियम एक ऐसा पोषक तत्व है जो दांतों और हड्डियों के लिए बेहद आवश्यक होता है | इस उम्र में कैल्शियम की कमी हो जाती है जिसे कई समस्याएं उत्पन्न हो जाती है | आइये जानते है हड्डियों में कैल्शियम की कमी के 7 ऐसे लक्षण जिसका जानना है बेहद ज़रूरी :- 

 

  1. हड्डियों में दर्द और कमजोरी आना :- कैल्शियम की कमी के बाद हड्डियां काफी कमजोर हो जाती है, जिससे यह हड्डियों में दर्द होने लगता है | यह दर्द ऐसा होता है जो कभी अचानक या धीरे-धीरे होने लगता है | 

 

  1. आसानी से फ्रैक्चर होने की समस्या :- कैल्शियम की कमी से हड्डियां इस हद तक कमजोर हो जाती है इनके आसानी से फ्रैक्चर होने का खतरा भी बढ़ जाता है | हलकी सी चोट से भी यह टूट सकती है | 

 

  1. दांतों से जुड़ी समस्याएं उत्पन्न होना :- जहाँ कैल्शियम हड्डियों के लिए ज़रूरी है वही यह दांतों के लिए भी है | इसकी कमी दांतो में सड़न और मसूड़ों में सूजन जैसी  समस्या उत्पन्न हो जाती है | 

 

  1. मांसपेशियों में ऐंठन आना :- कैल्शियम के कमी से मांसपेशियों में ऐठन और अकड़न होने लगता है,यह समस्या खासकर रात में समय में उत्पन्न होती है | 

 

  1. थकान और सुस्ती महसूस होना :- कैल्शियम मांसपेशियों और नसों में सही काम करने के लिए आवश्यक होता है, क्योंकि इसकी कमी से शरीर में कमजोरी और सुस्ती छाई रहती है | 

 

  1. नाखून में बदलाव आना :- कैल्शियम की कमी से नाखूनों में खून के सफ़ेद धब्बे दिखाई देने लगते है, जिससे यह कमजोर और भंगुर हो जाते है | 

 

  1. हेयर फॉल की समस्या :- कैल्शियम बालों के विकास का भी कार्य करता है, इसकी कमी से हेयर फॉल की समस्या उत्पन्न हो सकती  है |

 

अगर आपको ऊपर बताए गए कोई भी लक्षण दिखाई दे रहा है तो तुरंत डॉक्टर के पास जाकर इस समस्या का इलाज

कराएं | आप हुन्जुन हॉस्पिटल का चयन भी कर सकते हैं यहां के डॉक्टर ऑर्थोपेडिक में एक्सपर्ट है जो आपको इस समस्या से मुक्त करने में सहायता करेंगे |

Categories
Joints

विभिन्न चीजें जो जोड़ों में अकड़न और दर्द का कारण बनती हैं ?

जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपकी उपास्थि- स्पंजी सामग्री जो आपकी हडियो के सिरों की रक्षा करती है- सूखने और लगती है। आपका शरीर भी कम श्लेष द्रव बनाता है, वह पदार्थ जो आपके जोड़ों के सुचारु रूप से चलाने के लिए तेल की तरह काम करता है। परिणाम: आपके जोड़ अब पहले की तरह स्वतंत्र रूप से नहीं चल सकेंगे। आपके जोड़ों को ढीला रखने के लिए श्लेष द्रव को गति की आवश्यकता होती है।  

 

जोड़ वह स्थान है जहां दो हड्डियाँ मिलती है। प्रत्येक हड्डी का सिरा रबर युक्त पदार्थ की एक परत से ढका होता है जिसे उपास्थि कहते है। यह उन्हें आपस में रगड़ने से बचाता है। लेकिन समय के साथ या चोट लगने के बाद उपास्थि घिस सकती है। जब यह खत्म हो जाता है तो हड्डियां एक दूसरे से टकराती है और कभी कभी, छोटे- छोटे टुकड़े टूट जाते है। परिणाम स्वरूप जोड़ कड़ा, सुजा होआ और दर्दनाक हो जाता है। 

कार्ब्स और शुगर से रहें दूर

यह व्यापक रूप से ज्ञात है के चीनी का अधिक सेवन मोटापा, मधुमेह और हृदय रोग का कारण बनता है लेकिन क्या आप जानते है कि यह आपकी मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द में भी योगदान दे सकता है। शोध से पता चलता है कि अधिक चीनी वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से सूजन हो सकती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शर्करा युक्त खाद्य पदार्थ इंसुलिन नामक हार्मोन में वृद्धि का कारण बनते हैं जो जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं का एक सिलसिला शुरू करता है जिससे सूजन पैदा होती है। परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट से भरपूर आहार गठिया से पीड़ित लोगों में सूजन बढ़ सकता है। परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट से भरपूर आहार गठिया से पीड़ित लोगों में सूजन बढ़ सकता है।

प्रोसेस्ड मीट का सेवन

           प्रसंस्कृत मांस में नाइट्राइट और प्यूरीन होते हैं। ये रसायन सूजन बढ़ाते हैं और जोड़ों के दर्द का कारण बनते।   हॉट डॉग, कॉर्न बीफ़, बेकन और सॉसेज जैसे मांस सभी संसाधित होते हैं और इनसे बचना चाहिए। इसके बजाय दुबले, ताजे मांस के टुकड़े लें।

फ्राइड फूड्स और फैट से बनाएं दूरी

तले हुए खाद्य पदार्थों में संतृप्त वसा अधिक और ओमेगा-3 फैटी एसिड कम होता है। यह संयोजन पूरे शरीर में सूजन पैदा करता है और जोड़ों के दर्द को बदतर बना देता है। तले हुए चिकन को त्यागें और इसके बचाय इसे ग्रिल्ड या बैक करके खाने का प्रयास करें। आपको जोड़ों के दर्द से परेशान हुए बिना स्वादिष्ट स्वाद मिलेगा। 

धूम्रपान का सेवन

आपका सिनोबियम, वह ऊतक जो आपके जोड़ों को रेखा बुद्ध करता है, सूजन और गाढ़ा हो सकता है। तम्बाकू के धुएं में मुक्त कणों जैसे बहुत सारे हानिकारक पदार्थ शामिल होते हैं। वे आपके शरीर पर तनाव डालते हैं और सूजन पैदा कर सकते हैं। धूम्रपान करने वालों के शरीर में साइटोकिन्स नामक सूजन संबंधी प्रोटीन का स्तर अधिक होता है  

 डेयरी प्रोडक्ट्स

संतृप्त वसा से भरपूर आहार- जो पनीर और पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पादों में प्रचुर मात्रा में होता है- सूजन को बढ़ा सकता है। डायरी में उच्च स्तर का प्रोटीन कैसिइन होता है। इस प्रकार का प्रोटीन जोड़ों में सूजन और दर्द पैदा करता है, और यहां तक कि जोड़ों के आसपास जलन में भी योगदान दे सकता है। कुछ डेयरी उत्पाद, जैसे मक्खन, में उच्च मात्रा में संतृप्त वसा होती है। यह सूजन और जोड़ों के दर्द में भी योगदान दे सकता है।

Categories:

Categories
orthopaedic doctor
Categories
orthopaedic doctor

Different types of orthopedic surgery

Orthopedic Surgery is related to the musculoskeletal system. It is related to the surgery of diseases and injuries related to the bones, muscles, ligaments, tenders and soft tissues. It is the complex system of the musculoskeletal system, including bones, muscles, soft tissues, ligaments and tenders, which helps in moving the body. Orthopedic surgery deals with the issue with any part of the musculoskeletal system. For more details, you can consult an ortho hospital in India.

Different types of orthopedic surgeries

  • Joint Replacement Surgery: This surgery involves a procedure of removing a damaged joint and replacing it with an artificial joint to relieve the pain. It generally includes joints of the hips, knee, shoulder, etc.
  • Arthroscopy: Arthroscopic surgery is a procedure to correct torn ligaments or cartilage damage. In this procedure, a small camera and specialized instruments were put inside to resolve the issue.
  • Spine surgery: Spine surgery includes various conditions such as herniated discs, spinal deformities, or spinal stenosis. Correcting these problems through surgery comes under orthopedic surgery.
  • Fracture repair: Orthopedic surgeons perform surgeries to repair, realign and stabilize broken bones using different techniques.
  • Ligament and tendon repair: Surgeries are done to repair the torn ligaments or tendons present in the knee or shoulder.
  • Hand and wrist surgery: Conditions like carpal tunnel syndrome, trigger finger, hand/ wrist fractures, etc., need the surgery procedure and come in the ortho surgeon department.
  • Foot and Ankle Surgery: Orthopedic surgeons perform surgeries to correct problems such as bunions, ankle fractures, or Achilles tendon injuries.

The procedure of the Orthopedic Surgery

  • Preoperative evaluation: Before the surgical operation, some preoperative evaluation will be done in which the patient will go through a physical examination, which generally includes a review of medical history, X-rays or MRI scans, etc. 
  • Anesthesia: On the day of the surgery, the patient will be laid down on the bed comfortably and will be given Anesthesia later on to make the surgical operation pain-free for the patient. 
  • Incision: After anesthesia, the surgeon will make an incision to access the affected area. The size and location of the incision will depend on the procedure of the orthopedic surgery being performed.
  • Surgical Intervention: Surgical intervention generally means the necessary steps taken by the surgeon to deal with the affected area, which involves realigning fractured bones, repairing fractured bones, removing damaged tissues or replacing joints with artificial implants.
  • Closure: When the surgical intervention is done, the surgeon will carefully close the incision by using staples. With the help of proper dressing and bandages on the surgical site, proper protection would be provided to it.
  • Recovery: After the surgery is done, the patient is asked to stay in the recovery area for observation to avoid further complexities.

Orthopedic surgeons are trained to perform these surgeries. They analyze your condition closely and perform the surgery according to your situation.

For more assistance can check the Best ortho doctor in India.

Categories:

Categories
Orthopedic doctor
Categories
Orthopedic doctor

Types and common risks of Orthopedic surgery.

An orthopedic surgeon is a medical professional who analyzes, detects, and treats the problems related to the bones, joints, ligaments, tendons, and muscles. It is a doctor who deals with the musculoskeletal system. Every person in their life faces a problem related to their musculoskeletal system, and it is best advised to see an ortho doctor, the Best ortho doctor in India, to deal with the problem.

What is orthopedic surgery?

Orthopedic surgery is related to the diagnosis, treatment, and prevention of conditions affecting the musculoskeletal system. This includes the bones and joints. Muscles, nerves and tissues. Orthopedic surgeries are used to perform surgeries related to conditions such as fractures, joint replacement, spinal disorders, sports injuries, and more. They work closely with other healthcare professionals, such as physical therapists and rehabilitation specialists to guide the patient properly and help him to regain the momentum of their life again. For details can check ortho hospitals in India.

Different types of orthopedic surgeries:

  • Joint Replacement Surgery: This surgery involves a procedure of removing a damaged joint and replacing it with an artificial joint to relieve the pain. It generally includes joints of the hips, knee, shoulder, etc.
  • Arthroscopy: Arthroscopic surgery is a procedure to correct torn ligaments or cartilage damage. In this procedure, a small camera and specialized instruments were put inside to resolve the issue.
  • Spine surgery: Spine surgery includes various conditions such as herniated discs, spinal deformities, or spinal stenosis. Correcting these problems through surgery comes under orthopedic surgery.
  • Fracture repair: Orthopedic surgeons perform surgeries to repair, realign and stabilize broken bones using different techniques.
  • Ligament and tendon repair: Surgeries are done to repair the torn ligaments or tendons present in the knee or shoulder.
  • Hand and wrist surgery: Conditions like carpal tunnel syndrome, trigger finger, hand/ wrist fractures etc, need the surgery procedure and come in the ortho surgeon department.
  • Foot and Ankle Surgery: Orthopedic surgeons perform surgeries to correct problems such as bunions, ankle fractures, or Achilles tendon injuries.

What are the types of injuries that require surgery?

  • Fractures
  • Ligaments
  • Overuse injuries
  • Sprains
  • Impingement of any joint etc.

What are the common risks after the spine surgery?

  • Bleeding inside the spinal column
  • Leaking of the spinal fluid
  • Accidental damage to the blood vessel
  • Accidental damage to a nerve
  • Dural tear
  • Decreased range of motion

Measures to manage any risk and pain after the surgery:

  • Choosing experienced surgeon
  • Carefully following pre-surgery instructions
  • Communicate with your health care team
  • Doing regular exercise
  • Follow post-surgery instruction
  • Taking proper medications as suggested
  • Use ice or cold packs in the affected area
  • Practice the proper positioning and maintaining good posture
  • Take proper rest and avoid strenuous movements
  • Heat therapy to relax muscles and relieve pain should be done.

Orthopedic surgeons are trained to perform these surgeries. They analyze your condition closely and perform the surgery according to your situation.

For more assistance can check the Best ortho doctor in India.